ई-रुपया डिजिटल भुगतान (e-Rupi Digital Payment)

ई-रुपया डिजिटल भुगतान (e-Rupi Digital Payment)

ई-रुपया (e-RUPI) क्या है? (What is e-RUPI ?)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने और इसके तहत होने वाले लेन-देन को सुरक्षित बनाने के उद्देश्य से पिछले सात वर्षों में कई क्रांतिकारी व युगान्तकारी कदम उठा चुके हैं। “ई-रुपया” डिजिटल पेमेंट सिस्टम उनमें से एक और बिल्कुल नया है। इसके लिए लोगों को इंटरनेट बैंकिंग या कार्ड आदि की जरूरत नहीं होगी। पीएम मोदी ने इसे लोगों तक सरकारी सेवाओं का फायदा पहुंचने के लिए लॉन्च किया है। यह देश की अपनी डिजिटल करेंसी के रूप में भारत का पहला कदम है। ई-रुपया की लांचिंग से देश में डिजिटल पेमेंट्स में डिटिजल करेंसी को लेकर कितनी क्षमता है, इसका आकलन किया जा सकेगा।

डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने के उद्देश्य से पीएम नरेंद्र मोदी ने 02 अगस्त 2021 वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ई-वाउचर-बेस्ड डिजिटल पेमेंट सॉल्यूशन “ई-रुपया (e-RUPI)” को लॉन्च किया। यह एक प्रीपेड ई-वाउचर है, जिसे नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया यानी एनपीसीआई ने विकसित किया है। इस प्लेटफॉर्म को नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) ने वित्तीय सेवा विभाग, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय और राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण के साथ मिलकर तैयार किया है।

ई-रुपी को किसने विकसित किया है? (Who has developed e-rupee?)

नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) ने कैशलेस लेनदेन को बढ़ावा देने के लिए यह वाउचर-बेस्ड भुगतान प्रणाली लॉन्च की है। वित्तीय सेवा विभाग, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय और राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण के सहयोग से इसे विकसित किया गया है।

ई-रुपया (e-RUPI) के सकारात्मक पक्ष (Benefits of e-RUPI Digital Payment)

  • ई-रुपया एक कैशलेस और डिजिटल पेमेंट्स सिस्टम मीडियम है जो एसएमएस (sms) स्ट्रिंग या एक क्यूआर कोड (QR Code) के रूप में लाभार्थी (beneficiary) को प्राप्त होगा।
  • यह एक तरह से गिफ्ट वाउचर के समान होगा जिसे बिना किसी क्रेडिट या डेबिट कार्ड या मोबाइल ऐप या इंटरनेट बैंकिंग के खास एस्सेप्टिंग सेंटर्स पर रिडीम कराया जा सकेगा।
  • ई-रुपी एक कैशलेस और कॉन्टैक्टलेस डिजिटल भुगतान प्लेटफॉर्म है। सेवा प्रायोजकों और लाभार्थियों को डिजिटल रूप से जोड़ता है।
  • ई-रुपी के जरिए विभिन्न कल्याणकारी सेवाओं की लीक-प्रूफ डिलीवरी सुनिश्चित करता है।
  • इस निर्बाध एकमुश्त पेमेंट सिस्टम के उपयोगकर्ता सेवा प्रदाता पर कार्ड, डिजिटल भुगतान ऐप या इंटरनेट बैंकिंग एक्सेस के बिना वाउचर को भुनाने में सक्षम होंगे।
  • ई-रुपी सेवाओं के प्रायोजकों को बिना किसी फिजिकल इंटरफेस के डिजिटल तरीके से सेवाओं के प्रायोजकों को लाभार्थियों और सर्विस प्रोवाइडर्स के साथ जोड़ता है। 
  • ये सर्विस यह भी सुनिश्चित करता है कि लेन-देन पूरा होने के बाद ही सेवा प्रदाता को भुगतान किया जाए।
  • इन डिजिटल वाउचर का उपयोग निजी क्षेत्र द्वारा अपने कर्मचारी कल्याण और कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी कार्यक्रमों के लिए भी किया जा सकता है।
  • प्री-पेड प्रकृति का होने के कारण, यह सेवा प्रदाता को बिना किसी मध्यस्थ की भागीदारी के समय पर भुगतान का आश्वासन देता है।
  • नियमित भुगतान के अलावा, इसका उपयोग आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना, उर्वरक सब्सिडी जैसी योजनाओं के तहत मातृत्व और बाल कल्याण योजनाओं, टीबी उन्मूलन कार्यक्रमों, दवाओं और निदान और खाद सब्सिडी इत्यादि योजनाओं के तहत सर्विस उपलब्ध कराने के लिए भी किया जा सकेगा।

ई-रुपया डिजिटल भुगतान का अवलोकन (Overview of e-Rupee Digital Payments)

करेंसी नेमDigital e-Rupi App
डिजिटल ई-रूपी ऐप
किसके अंतर्गतरिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया (RBI)
शुरू की गयीप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा
लॉन्च डेट02 अगस्त 2021

बैंक जो ई-रुपया (e-Rupee) सिस्टम के साथ जुड़े हैं

S/NoBank NameIssuerAcquirerAcquiring App/ Entity
1Axis BankBharat Pe
2Bank of BarodaBHIM Baroda Merchant Pay
3Canara BankN/A
4HDFC BankHDFC Business App
5ICICI BankBharat Pe & PineLabs
6Indusind BankN/A
7Indian BankN/A
8Kotak BankN/A
9Punjab National BankPNB Merchant Pay
10State Bank of IndiaYONO SBI Merchant
11Union Bank of IndiaN/A

अभी इसका इस्तेमाल कहां किया जा सकता है? (Where can it be used now?)

शुरुआत में नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया ने 1,600 से ज्यादा अस्पतालों के साथ करार किया है जहां ई-रुपी को भुनाया यानी उससे भुगतान किया जा सकता है। विशेषज्ञों का कहना है कि आने वाले दिनों में इसके उपयोग का बेस व्यापक होने की उम्मीद है। यहां तक ​​कि निजी क्षेत्र भी इसका उपयोग अपने कर्मचारियों को लाभ देने के लिए कर सकेंगे। सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग भी इसे बिजनेस टू बिजनेस लेनदेन के लिए अपना सकेंगे।

What you say about this

X
%d bloggers like this: