कोविड -19 महामारी से जुड़े नैतिक मुद्दे (Covid-19 pandemic and ethical issues/concerns)

कोरोना वायरस से बचाव और रोकथाम के लिए बड़े कदम उठाये जा रहे हैं और गंभीर दिशा-निर्देश दिए जा रहे हैं।

कोरोना वायरस की महामारी के कारण वैश्विक स्वास्थ्य संकट गहराता जा रहा है और अनेक लोगों के लिए लॉकडाउन नया ‘नियम’ बन गया है और अब यह धारणा तेजी से बन रही है कि आने वाले समय में जब तक कोरोना वायरस खत्म होगा तब तक दुनिया की सूरत हमेशा-हमेशा के लिए बदल जाएगी।

आज इस बात को लेकर आम सहमति है कि अगले डेढ़ से दो साल तक पूरी दुनिया किसी न किसी रूप से संभवतः कोविड-19 के तात्कालिक खतरे से ही जूझती रहेगी और उसके बाद भी पुनर्निर्माण और इसके स्थाई प्रभाव निःसंदेह कई वर्षों तक महसूस किए जाते रहेंगे। दुनिया के कई हिस्सों में, सीमाएं बंद हैं, हवाई अड्डे, होटल और व्यवसाय बंद हैं, और शैक्षणिक संस्थान बंद हैं। ये अभूतपूर्व उपाय कुछ समाजों के सामाजिक ताने-बाने को तोड़ रहे हैं और कई अर्थव्यवस्थाओं को बाधित कर रहे हैं, जिसके परिणामस्वरूप बड़े पैमाने पर लोगों की नौकरियां छूट रही है और व्यापक पैमाने पर भूख की छाया बढ़ रही है।

व्यक्तियों, समूहों, समुदायों, शहरों और यहां तक ​​कि पूरे देशों पर व्यापक प्रतिबंध लगाए गए हैं। इन प्रतिबंधों से कई नैतिक प्रश्न उठ कड़े हैं और नैतिक दुविधाएं उत्पन्न हो गई हैं।

नैतिकता की आधारभूत मान्यताएं

नैतिकता के तीन स्कूल हैं जिनके आधार पर हम  कोविड -19 से संबंधित नैतिक मुद्दों पर विचार कर सकते हैं।

  • सदाचार नैतिकता अरस्तू और अन्य प्राचीन यूनानियों द्वारा विकसित एक दर्शन है। यह इस बात पर बल देता है की है कि ईमानदार, बहादुर, न्यायपूर्ण, उदार आदि जैसे सदाचारी व्यवहार के माध्यम से व्यक्ति एक सम्मानजनक और नैतिक चरित्र का विकास करता है।
  • व्यक्तिगत नीतिशास्त्र के अनुसार सभी परिस्थितियों में नैतिक व्यवहार के लिए पूर्ण नियम हैं और उनका सम्मान किया जाना चाहिए ताकि मानव गरिमा की रक्षा हो सके। यह जर्मन दार्शनिक, इमैनुएल कांट के साथ निकटता से जुड़ा हुआ है। यह किसी व्यक्ति को साधन के रूप में मानने की अनुमति नहीं देता है। प्रत्येक व्यक्ति अपने आप में एक साध्य  है।
  • उपयोगितावाद एक नैतिक सिद्धांत है जो परिणामों पर ध्यान केंद्रित करके सही गलत को निर्धारित करता है। उपयोगितावाद का मानना ​​​​है कि शुभ वह है जो सबसे बड़ी संख्या के लिए लाभकारी हो।

इसी परिप्रेक्ष्य में हम इस महामारी काल में उत्पन्न  नैतिक दुविधाओं की पहचान करेंगे।

 जानवरों के प्रति क्रूरता

पहला है चीन का बाजार। ये ऐसे स्थान हैं जहां जीवित जानवरों को अक्सर मानव उपभोग के लिए मार दिया जाता है और बेचा जाता है – जिनमें कुछ मामलों में, चमगादड़ और पैंगोलिन जैसे वन्यजीव शामिल हैं। बाजार विक्रेता विभिन्न प्रजातियों के जानवरों बंद कर देते हैं, जहां जानवर संभावित रूप से अन्य जानवरों की हत्या हैं। यही कारण है कि ये बाजार रोगजनकों के लिए जानवरों की प्रजातियों और फिर मनुष्यों में रोग संचरण  के लिए अनुकूल परिस्थिति का निर्माण करते हैं। यह मुद्दा जानवरों के प्रति क्रूरता को उजागर करता है और जूनोटिक बीमारियों का कारण बनता है।

लॉकडाउन के कारन उत्पन्न नैतिक दुविधा

दूसरा, जीवन को आजीविका के साथ संतुलित करने की नैतिक चुनौती है। स्वास्थ्य और मौत की रोकथाम के लिए लॉक डाउन जरूरी है। लेकिन नौकरी, व्यवसाय, मानसिक स्वास्थ्य, अलगाव को समाप्त करना, सामाजिक जीवन की बहाली आदि के लिए अनलॉक करना भी उतना ही आवश्यक है। ऐसे में लॉक डाउन एक नैतिक दुविधा उत्पन्न करती है।

तीसरा अत्यधिक बोझिल स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे का उपयोग करने का नैतिक तरीका है। 

मानवाधिकारों को बनाए रखने का मुद्दा

लॉकडाउन ने लोगों की आजीविका के विकल्पों को सीमित कर दिया है, और उन्हें कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है, खासकर गरीबों को। वे भोजन और आश्रय जैसी बुनियादी जरूरतों को भी पूरा नहीं कर पा रहे हैं, यह मानवाधिकारों के उल्लंघन का मामला है।

नैतिक और सुशासन के मुद्दे

  • प्रशासन अपनी ‘लॉकडाउन रणनीति’ के संबंध में एक नैतिक मुद्दे का सामना कर रहा है। यह लोगों की आवाजाही को प्रतिबंधित करता है और जबरदस्ती ‘सोशल डिस्टेंसिंग’ लागू करता है।
  • यहां दुविधा देश की आर्थिक जरूरतों को संतुलित करने और कोविड संक्रमण के प्रसार को रोकने की है।
  • कमजोर वर्ग के प्रति सहानुभूति और करुणा की कमी, सख्त तालाबंदी और आवाजाही पर प्रतिबंध में निहित मुद्दे हैं।

स्वास्थ्य सुविधाओं का इस्तेमाल करने में नैतिक दुविधा

  • मान लीजिए, तीन मरीज हैं – एक 15 वर्षीय लड़का, एक 26 वर्षीय गर्भवती महिला और एक 70 वर्षीय व्यक्ति। सिर्फ एक वेंटिलेटर बचा है। इसे कौन प्राप्त करता है?
  • क्या हमें पहले आओ, पहले पाओ के आधार पर बिस्तर आवंटित करना चाहिए?
  • क्या हम एक मरीज को जीवित रहने की सीमित सम्भावना के कारण वेंटिलेटर से हटा देते हैं ताकि दूसरे को बेहतर मौके दे सकें?
  • यदि दो रोगियों को समान चिकित्सा आवश्यकता और ठीक होने की संभावना है, तो क्या हमें सबसे कम उम्र के रोगी को चुनना चाहिए वैसे रोगी को जिस पर आश्रितों की संख्या ज्यादा हो?

 सोशल डिस्टन्सिंग और नैतिकता

चौथा है सोशल डिस्टेंसिंग की नैतिकता। संक्रमण की गति को कम करना जरूरी है। लेकिन इसके लिए लॉकडाउन की जरूरत है। परन्तु हमें समुदाय और यात्रा करने का अधिकार है, क्योंकि ऐसा करना इंसानों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग हमारे अवसरों को सीमित कर सकता है। दुविधा यह है कि स्वीडन की तरह स्वेच्छा से ऐसा करने के लिए यह निर्णय क्या हमें लोगों  पर छोड़ देना चाहिए ।

वैक्सीन से जुड़ा नैतिक मुद्दा

एक प्रभावी टीका लाखों मौतों को रोक सकता है। कुछ परोपकारी लोग स्वेच्छा से वैक्सीन के विकास हेतु डेटा प्रदान करने के लिए वायरस को अपने शरीर में प्रवेश करने की इजाजत देते हैं। उनमें से कुछ की मृत्यु हो सकती है जबकि कुछ विकलांग जैसे दुष्प्रभाव का शिकार हो सकते हैं। यहाँ दुविधा इस बात से संबंधित है कि उन्हें स्वयंसेवा करने की अनुमति देते हुए नुकसान को कैसे कम किया जाए। इसे मानव चुनौती कहा जाता है।

स्वास्थ्यकर्मियों से जुडी नैतिक दुविधा

महामारी काल में कुछ नैतिक दुविधाएं स्वास्थ्य देखभाल कर्मियों के अधिकारों और दायित्वों के बारे में भी उत्पन्न हुई हैं। स्वास्थ्य देखभाल को आवश्यक सेवा घोषित करने और उचित स्वास्थ्य सुरक्षा के बिना काम करने के लिए उन्हें मजबूर करने में भी नैतिक दुविधा उत्पन्न होती है। आखिर एक को बचाने के लिए दुसरे की जान जोखिम में डालना कहाँ तक उचित है।

क्लीनिकल परिक्षण से जुडी नैतिक दुविधा   

  • एक महत्वपूर्ण नैतिक दुविधा क्लिनिकल परीक्षण करने के बारे में है। इसका सम्बन्ध उस सूचना से है जो उन मनुष्यों को प्रदान किया जाना चाहिए जिन पर यादृच्छिक परीक्षण (आरसीटी) आयोजित किए जाते हैं। दुविधा इस बात को लेकर है कि क्या रोगियों को परीक्षणों के बारे में उचित जानकारी दिए बिना नैदानिक ​​​​परीक्षण करने के लिए इस्तेमाल किया किया जा सकता है।
  • नैदानिक परीक्षणों में जोखिम को कम करने की जरूरत है, ताकि जांचकर्ताओं को यह विमर्श प्रदान किया जा सके कि चुनौती देने वाले जीव को रोगजनक होने की जरूरत है या नहीं और यदि हां तो किस सीमा तक। अध्ययन का उद्देश्य इस निर्णय को रोगजनकता या क्षीणन के बारे में बता सकता है, लेकिन स्वस्थ विज्ञान के फ्रेम के भीतर संभव हो सके और परीक्षण के अधीन मनुष्यों के लिए जोखिम भीको कम किया जा सके इस संबंध में भी हर संभवाना को ध्यान में रखा जाना चाहिए। 

वैक्सीन के मूल्य से जुड़ा नैतिक मुद्दा

एक नैतिक दुविधा वैक्सीन के मूल्य निर्धारण के बारे में भी है। विश्व व्यापार संगठन के बौद्धिक संपदा अधिकारों (ट्रिप्स) के व्यापार-संबंधित पहलुओं पर समझौता एकाधिकार मूल्य निर्धारण की अनुमति देता है लेकिन यह सार्वजनिक हित के खिलाफ जाता है। यह आवश्यक है कि महंगे मूल्य निर्धारण के खिलाफ सुरक्षा उपायों की अनुमति दी जानी चाहिए।

ऐप्प और निजता का अधिकार

इसके दो पहलू हैं। एक यह है कि विभिन्न संपर्क ऐप आवश्यकता से अधिक जानकारी मांग रहे हैं और इस प्रकार गोपनीयता का उल्लंघन कर रहे हैं। यहाँ नैतिक मुद्दा सार्वजनिक स्वास्थ्य और गोपनीयता के बीच उचित संतुलन की चिंता करता है। एक अन्य पहलू रोगी की चिकित्सा जानकारी की गोपनीयता है जो उसकी सामाजिक स्वीकार्यता और गरिमा के लिए महत्वपूर्ण है।

वैक्सीन वितरण से जुड़ी नैतिक दुविधा

कोरोना महामारी के फैलने का सिलसिला जारी है और इसे रोकने के लिए अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर वैक्सीन निर्माण और वितरण की प्रक्रिया जोरों पर है।  परन्तु वैश्विक जनसँख्या के मुकाबले वैक्सीन निर्माण कर पाना कठिन है।  ऐसे में वैक्सीन की सिमित संख्या को देखते हुए वैक्सीन निर्माता, सरकारें और स्वास्थ्य अधिकारी के समक्ष एक नैतिक दुविधा यह भी है की  वितरण किस प्रकार से की जाए और जनसँख्या के किस भाग या फिर किन देशों को वैक्सीन वितरण में प्राथमिकता दी जाये। कई ऐसे देश हैं जहाँ वैक्सीन निर्माण के लिए  संसाधन हैं और न तकनीक।  परन्तु क्या उनको वैक्सीन मुहैय्या करने के लिए एक सक्षम देश अपने नागरिकों की आवश्यकता की अनदेखी कर सकता है।

  • कोरोना महामारी के काल में कर्मचारी छंटनी के संबंध में नैतिक दुविधा
  • विनाशकारी महामारी कोविड -19 जिसने दुनिया भर की आबादी को त्रस्त कर दिया है, ने अर्थव्यवस्था के औपचारिक और अनौपचारिक क्षेत्रों पर अभूतपूर्व प्रभाव डाला है। लॉकडाउन और रोकथाम के उपायों के कारण दुनिया भर में उत्पादन सुविधाएं बंद हो गईं, साथ ही इसने मानवता के सामने कुछ नैतिक प्रश्न भी खड़े कर दिए। ऐसा ही एक सवाल निजी कंपनियों के सामने था और है भी  कि कर्मचारियों की छंटनी की जाए या नहीं।
  • कर्मचारी केवल दो उद्देश्यों के साथ काम करता है—– पहला, निजी संगठन द्वारा निर्धारित लक्ष्यों को प्राप्त करना और दूसरा, अपने परिवार की आजीविका के लिए।
  • इसलिए, केवल लाभ के उद्देश्य से यदि नियोक्ता कर्मचारी को हटा देता है तो कर्मचारी वित्तीय कठनाई  में पड़ जाएगा जो उसे गरीबी में ले जाएगा। उसे परिवार के लिए भोजन के प्रबंध की समस्या का भी सामना करना पड़ेगा।
  • यदि कोई कर्मचारी जिसने कई वर्षों तक काम किया है, निजी संगठन की हर सफलता और विफलता का हिस्सा है, तो संकट के बीच उस कर्मचारी की छंटनी करना उस कर्मचारी की वफादारी के लिए विश्वासघात होगा।
  • सिर्फ असंगठित क्षेत्र में ही नहीं बल्कि पत्रकारिता जैसे संगठित क्षेत्र में भी लोगों को छंटनी का सामना करना पड़ा। उन्होंने सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए अपना गुस्सा जाहिर किया।  उदाहरण के लिए, भारत के प्रमुख समाचार पत्रों में से एक को अपने 100 कर्मचारियों की प्रतिक्रिया का सामना करना पड़ा, जिन्हें वित्तीय कमी के कारण निकाल दिया गया था।
  • परन्तु उत्पादन अवरुद्ध होने पर होने वाली आय में रुकावट के कारण  एक निजी संगठन कर्मचारी के लिए भुगतान कैसे कर सकता है, भले ही वह उन्हें भुगतान करना चाहता हो।
  • संकट के समय मानवता के पास इस दुविधा का उत्तर है जैसा कि अतीत में भी किया गया  है। इसलिए, कोविड -19 के समय में कर्मचारियों से छुटकारा पाना एक अनैतिक कदम प्रतीत होता है क्योंकि यह मानवता के तत्व को दरकिनार कर देता है। इसलिए, एक साथ आकर और मदद करने वाले हाथों की एक श्रृंखला बनाकर इस प्रश्न का समाधान खोजना ही इस नैतिक समस्या का सही हल है।

इन नैतिक मुद्दों को हल करने के उपाय

मानवाधिकार और अंतर-अनुभागीय आधारित दृष्टिकोण: यह महत्वपूर्ण है कि सरकारें मानवाधिकारों और अंतर-आधारित दृष्टिकोण का उपयोग करें ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि मौजूदा संकट के दौरान सबसे अधिक हाशिए पर रहने वाले लोगों सहित सभी की आवश्यक जानकारी, समर्थन प्रणाली और संसाधनों तक पहुंच हो।

मीडिया की भूमिका

  • मीडिया लिंग आधारित हिंसा के खिलाफ जनता को संवेदनशील बना सकता है, उपलब्ध संसाधनों और सेवाओं का प्रचार कर सकता है और घर पर घरेलू कार्यों को समान रूप से साझा करने के लिए प्रोत्साहित कर सकता है।
  • साथ ही, गैर सरकारी संगठनों के लिए संसाधनों को बढ़ाया जाना चाहिए ताकि वे लोगों को कोविड -19 महामारी की गंभीरता के बारे में जागरूक करने में मदद कर सकें और सबसे अधिक प्रभावित गरीबों का पता लगाने और उन तक पहुंचने में मदद कर सकें।

आवश्यक वस्तुओं की निर्बाध आपूर्ति 

  • राज्य सरकारें स्थानीय प्रशासन और गैर सरकारी संगठनों की मदद से गरीबों को बुनियादी जरूरत की वस्तुओं (भोजन, आश्रय, दवाएं) का पता लगाने और उन्हें उपलब्ध कराने में सक्षम होनी चाहिए।
  • लॉकडाउन के दौरान आवश्यक वस्तुओं को घर के दरवाजे पर ही पहुंचाया जाना चाहिए। इस संबंध में ई-कॉमर्स कंपनियों द्वारा सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) और आवश्यक वस्तुओं की डिलीवरी का लाभ उठाया जा सकता है।

What you say about this

X
%d bloggers like this: