कश्मीरकाविशेषदर्जासमाप्तकरनेकेपीछेभारतकातर्कऔरपाकिस्तानकाप्रत्युत्तर

हाल ही मेंभारतीय संसद ने जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन विधेयक, 2019 पारित करदिया, जिसकेअंतर्गतजम्मू-कश्मीरराज्यसेसंबंधितसंविधानकेअनुच्छेद 370 केखण्ड 1 केसिवाय इसअनुच्छेदकेसारे खण्डों को हटाया गया और राज्य का विभाजन कर दो केन्द्रशासित प्रदेशों जम्मू-कश्मीर (विधानसभासहित) एवं लद्दाख (बिना विधानसभा) का गठन कर दिया गया।इस विधेयक के पारित होने के बाद से अब राज्य में अनुच्छेद 370(1) ही लागू रहेगा, जो संसद  द्वारा जम्मू-कश्मीर के लिए कानून बनाने से संबंधित है।

अनुच्छेद 370 केपरिणामस्वरूपजम्मूऔरकश्मीरकोविशेषराज्यकादर्जाप्राप्तथा।बहुतसारीचीज़ेंथींजोकिदेशकेबाकीराज्योंपरलागूहोताथीलेकिनजम्मूऔरकश्मीरपरनहीं।जैसे-

  • जम्मूऔरकश्मीरकाअपनासंविधानथा।
  • जबतकराज्यसरकारअपनीसहमतिनहींदेतीथीतबतकसंसदद्वारापारितसभीकानूनराज्यपरलागूनहींहोंतेथे।
  • राष्ट्रपतिकोयहतयकरनेकाअधिकारथाकिभारतकेसंविधानकेकौनसेप्रावधानराज्यकेलिएलागूहोंगेऔरअपवादक्यारहेंगेलेकिनराज्यसरकारकीसहमतिसे।

अनुच्छेद 370 काविरोधऔरसरकारकातर्क

इसअनुच्छेदकेखिलाफकईलोगकईसालोंसेविरोधकररहेथेक्योंकिइसकेअंतर्गतऐसीकईबातेंथीजोलैंगिकभेदभावऔरवहांरहनेवालेनिवासियोंकोउनकेमूलभूतअधिकारोंसेवंचितकररहीथी।

भारतीयसंविधानमेंअनुच्छेद 370 कोजम्मू-कश्मीरकोस्वायत्तताप्रदानकरनेकेलियेजोड़ागयाथा।किंतुयहकश्मीरियोंकीभलाईकरनेमेंविफलरहा।

इसीकेचलतेकश्मीरलंबेसमयसेउग्रवादऔरहिंसासेपीड़ितरहाथा।इसनेकश्मीरऔरअन्यराष्ट्रोंकेबीचखाईकोबढ़ानेकाकार्यकियाथा।इसकेचलतेपाकिस्तानऔरचीनजैसेपड़ोसियोंसेभारतकीसुरक्षासंबंधीचुनौतियाँऔरजटिलहोरहीथीं।अनुच्छेद370 (35A)काविरोधकरनेकेमुख्यकारणहैं-

  • कुछलोगोंकोवहांरोज़गारएवंसरकारीशिक्षणसंस्थानोंमेंप्रवेशकालाभनहींमिलरहाथा।
  • 1947 मेंजम्मूमेंबसेहिंदूपरिवारअबतकशरणार्थीहैंएवंइन्हेंनौकरीहासिलकरनेकाकोईअधिकारनहींथा।
  • कुछलोगोंकोनिकायएवंपंचायतचुनावमेंवोटिंगराइटनहींथा।
  • राज्यकीकिसीमहिलाद्वाराबाहरीव्यक्तिसेशादीकरनेपरउसेसंपत्तिकेअधिकारसेवंचितकरनेकाप्रावधानथा।
  • अगरकोईमहिलाकिसीऐसेपुरुषसेशादीकरतीथीजिसकेपासकश्मीरकीनागरिकतानहींथीतोउत्तराधिकारियोंकोभीनागरिकतानहींमिलतीथीऔरनासंपत्तिमेंहिस्सा।

लेकिनयहकामपहलेक्योंनहींहुआ

इसकीदोवजहेंहैं।पहली, हालहीमेंस्वाधीनहुएदेशकेनएनेतृत्वकोलगाकिकश्मीरविवादकेख़त्महोनेकेबादहीयहकामहोनाचाहिए, भलेहीइसमेंहरिसिंहकेराजकेदौरानआनेवालेसारेक्षेत्रशामिलहोंयानियंत्रणरेखा (एलओसी) कोवैधअंतरराष्ट्रीयसीमाकेतौरपरमान्यतामिले।इसकासुझावबादकेवर्षोंमेंअक्सरदियागया।

दूसरीवजहअमूर्तहै।भारतनेबंटवारेकोस्वीकारकरलियाथाऔरउसकेसाथजीनेकीआदतडाललीथी।हालांकि, अलग-अलगधर्मकेजिसआधारपरदेशकेदोटुकड़ेहुएथे, उसनेउसेस्वीकारनहींकियाथा।भारतयहमाननेकोतैयारनहींथाकिअलग-अलगधर्मों- मिसालकेलिएहिंदूऔर

मुस्लिमएकदेशमेंमिल-जुलकरनहींरहसकते।भारतीयसोचऔरतत्कालीनसरकारकोलगाकिहिंदूबहुलजम्मू, बौद्धोंकीअधिकआबादीवालेलद्दाखऔरमुस्लिमबहुलकश्मीरघाटीकोबांटनेसेयहसंदेशजाएगाकिकश्मीरीमुसलमानदूसरेधार्मिकसमूहोंसेअलगहैंऔरइससेपाकिस्तानकोभारतकेखिलाफ़एकपॉइंटमिलजाएगा।

पाकिस्तानकारवैया

दूसरीतरफपाकिस्ताननेकानूनयाबहुलतावादकोलेकरअक्लमंदीनहींदिखाई।उसनेकश्मीरकेजिनहिस्सोंपरक़ब्ज़ाकियाथा, उनसेउत्तरीक्षेत्रकोअलगकरदियाऔरउसकेसाथबिल्कुलअलगबर्तावकियागया।इसक्षेत्रकोअबगिलगिट-बलटिस्तानकेनामसेजानाजाताहै।यहांएकतरहसेपाकिस्तानकीतानाशाहीचलतीहै।

इसक्षेत्रकेमूलनिवासियोंकेसाथभेदभावहोताआयाहैऔरधार्मिकआधारपरउनकासफायाकियाजारहाहै।पाकिस्ताननेइसक्षेत्रमेंबड़ेपैमानेपरडेमोग्राफिकबदलाव (पाकिस्तानकेदूसरेक्षेत्रोंसेलाकरलोगोंकोयहांबसायागयाहै) भीकिएहैं।इतनाहीनहीं, 1963 मेंउसनेइसक्षेत्रकेएकहिस्सेकोचीनकोभीसौंपदियाथा।

लद्दाखऔरजम्मूमेंपनपताविरोध

लद्दाखऔरशायदजम्मूकोअलगराजनीतिकइकाईनहींमाननेऔरजिसघाटीसेउनकाकोईजुड़ावनहींथा, उससेअलगनहींकरनेसेजोख़िमभीजुड़ाहुआथा।

अंतरराष्ट्रीयबिरादरीनेकश्मीरपरभारतकेहक़मेंकोईरायनहींबनाईबल्किवैश्विकऔरद्विपक्षीयधाराओंसेतयहोतारहाकिकश्मीरपरअंतरराष्ट्रीयसमुदायकीरायभारतकेपक्षमेंहोगीयाविरोधमें।

समयकेसाथलद्दाखऔरउससेकहींअधिकजम्मूमेंएकविरोधपनपतारहा।इनक्षेत्रोंकेलोगइसबातसेनाराज़थेकिघाटीकेभौगोलिकरूपसेछोटाइलाक़ाहोनेऔरतुलनात्मकरूपसेवहांकीकमआबादीकोउसकेहकसेकहींअधिकराजनीतिकअहमियतदीजारहीहैऔरउसपरचर्चाहोरहीहै।घाटीमेंसरकारीखर्चकोलेकरभीउनमेंनाराज़गीथी।

5 अगस्तकेफैसलेकीकुछज़मीन 2014-16 केबीचभीतैयारहुई।प्रधानमंत्रीनरेंद्रमोदीजबमई 2014 मेंसत्तामेंआएथे, तबकश्मीरपरउनकाखुलानज़रियाथा।वहपाकिस्तानकेसाथबातचीतकरकेकश्मीरविवादकास्थायीहलनिकालनाचाहतेथे।उनकेपासइसकेलिएअपनाफ़ॉर्मूलाथा।वहव्यापारऔरविकासकाइस्तेमालदोनोंदेशोंकेबीचतालमेलबढ़ानेकेलिएकरनाचाहतेथे।मोदीचाहतेथेकिसीमाविवादकाहलआगेचलकरनिकालाजाए।

पाकिस्तानकीसेनानेसीमापरभारतकेखिलाफआक्रामकरुख़अपनालियाथा।यहबतानामुश्किलहैकिवहअपनेप्रधानमंत्रीकीछविकोनुकसानपहुंचानाचाहतीथीयाउसकीमंशाभारतकेनएप्रधानमंत्रीकेधैर्यकीपरीक्षालेनेकीथी।इसीकोध्यानमेंरखकरउन्होंने 26 मई 2014 कोअपनेशपथग्रहणसमारोहमेंपाकिस्तानकेतत्कालीनप्रधानमंत्रीनवाजशरीफकोन्योतादियाथा।उन्होंनेअपनीतरफ़सेएककोशिशकीथी, लेकिनकुछहीहफ्तोंमेंउनकीमेहनतपरपानीफिरगया।

आतंकवादकानयादौर

8 जुलाई 2016 कोसुरक्षाबलोंकीकार्रवाईमेंआतंकवादीबुरहानवानीकेमारेजानेकेबादघाटीघाटीमेंउबालआगया।वानीऔरउसकीमौतकेबादकश्मीरमेंअशांतिकाएकनयादौरशुरूहुआ।इसमेंआज़ादीकीमांगकीआवाज़, जिहादकीआवाज़केनीचेदबगई।यहसंघर्षअबकश्मीरकीआज़ादीयापाकिस्तानकेसाथविलयतकसीमितनहींरहगयाथा।अबयहांखलीफ़ाकीबातेंहोरहीथीं।इस्लामिकस्टेटऔरइसीतरहकेअन्यसंगठनोंकीइमेज, नारोंऔरवीडियोनेकश्मीरकेनौजवानोंकोबड़ेपैमानेपरप्रभावितकरनाशुरूकरदियाथा।

बदलेहुएहालातमेंभारतकेलिएअनुच्छेद 370 कोखत्मकरनेकाफैसलालेनेकीगुंजाईशबनी।भारतपरकोईअंतरराष्ट्रीयदबावनहींथा।भारतीयसुरक्षाबलोंकेनिशानेपरवैसेनकाबपोशथे, जिन्हेंइस्लामिकस्टेटकेआतंकवादियोंकीयाददिलातेथे।उनकेहाथोंमेंवेएके-47 थेऔरवेइस्लामिकयुद्धकीवकालतकररहेथे।बदलेहुएहालातकामतलबयहथाकिघाटीमेंअबपारंपरिकराजनेताअप्रासंगिकहोगएहैं।यहबातनसिर्फ़अब्दुल्ला (नेशनलकॉन्फ़्रेंस) औरसईद (पीपल्सडेमोक्रेटिकपार्टी) परिवारोंकेलिएसहीथीबल्किऑलपार्टीहुर्रियतकॉन्फ़्रेंसभीबेमतलबहोगईथी।

5 अगस्तकेफैसलेऔरउसकीटाइमिंगमेंभारतकेपड़ोसयानीपाकिस्तान-अफगानिस्तानमेंबदलरहेहालातकीभीभूमिकारहीहै।जैसाकिऊपरबतायाजाचुकाहैकिबुरहानवानीकेमारेजानेकेबाद 2016 मेंकश्मीरघाटीमेंअशांतिफैलगईथीऔरवहांकईनौजवानइस्लामिकस्टेटसेप्रेरितहोरहेथे।पाकिस्ताननेइसस्थितिकाफायदाउठायाऔरलोगोंकोधार्मिकआतंकवादकीराहपरधकेलनेऔरसुरक्षाबलोंपरपत्थरबाजीकेलिएउसनेपैसेभीभेजेथे।

कश्मीरकोलेकरतबइस्लामिकआतंकवादीसंगठन, पाकिस्तानकीधार्मिकअतिवादीसेनाएंऔरवहांकीसरकारएकहोगएथे।इसमेंवैसेतोकुछभीनयानहींथा।नईबातसिर्फइतनीथीकिपाकिस्तानसरकारअबआतंकवादियोंकेहाथकाखिलौनाबनगईथी।पाकिस्तानमेंएकवर्गइनधार्मिकसेनाओंकाइस्तेमालभारतकेखिलाफकरनाचाहताथा, लेकिनउनकाप्रभावकाफीकमहोगयाथा।यहवर्गचाहताथाकिउसकेकहनेपरयेलोगभारतकेखिलाफहमलेतेजकरदेंऔररोकनेपररुकजाएं।उनकीजगहपाकिस्तानीसेनाकेएकवर्गनेलेली, जोखुदकोवर्दीधारीअंतरराष्ट्रीयजिहादीमानतेथे।

बेशकइसमेंउन्हेंलश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मोहम्मदऔरइसतरहकेसंगठनोंकीताकतऔरक्षमताबढ़नेसेमददमिली।इसमेंभीकोईशकनहींहैकिकश्मीरकीअलगाववादीमुहिमपरधर्मकाकुछप्रभावहमेशासेरहाहै, लेकिन 2016 कीघटनासेइसकेनएऔरखतरनाकआयामसामनेआए।

भारतकेशेषभागकेसाथएकीकरण

अनुच्छेद 370 मेंबदलावकेपीछेएकतर्कयहभीहैकीजम्मू-कश्मीरऔरलद्दाखकोकेंद्रशासितप्रदेशबनानेसेइनक्षेत्रोंकेराजकाजमेंसरकारकादखलबढ़ेगा।यहांतककिसुरक्षा, पुलिससंबंधीमामलों, ख़ुफ़ियासूचनाएंजुटानेऔरइसतरहकेदूसरेकाममेंउसेआसानीहोगी।कश्मीरकोलेकरइसतरहकेमामलोंमेंकेंद्रकादखलहमेशासेज्यादारहाहै, लेकिनअबकमानपूरीतरहसेउसकेहाथआगईहै।इसतरहसेइसक्षेत्रकाभारतमेंएकीकरणसंभवहोपाएगा।गिलगिट-बलटिस्तानऔरचाइनीजसेंट्रलएशियाकेकरीबहोनेकीवजहसेलद्दाखभीउतनीहीअहमियतरखताहै।

हालांकि, कश्मीरपरनईपहलकासिर्फसुरक्षामामलोंसेलेना-देनानहींहै।यहबड़ालेकिनअकेलापैमानानहींहै. इसकदमकेपीछेएकसोचघाटीमेंराजनीतिकीप्रक्रियाकोनियमितकरनाहै।पहलेइसकीकोशिशनहींहुईहैऔरउलटेपारंपरिकराजनीतिकनेतृत्वइसमेंबाधाएंखड़ीकरतारहाहै।सचतोयहहैकिअलगाववादियोंऔरभारतसरकारकेबीचखुदकोएकपुलकीतरहपेशकरनेसेइसनेतृत्वकोफायदाहुआहैऔरइसपरभीउनकारुख़समय-समयपरबदलतारहाहै।

अनुच्छेद 370 कोहटानेकामतलबयहहैकिजोनियम-कायदाऔरकानूनभारतपरलागूहोताहै, वहअबजम्मू-कश्मीरपरभीलागूहोगा।देशभरमेंवंचितसमुदायऔरसमूहों — जिनमेंमहिलाओंसेलेकरधार्मिकअल्पसंख्यकऔरऐतिहासिकतौरपरपिछड़ावर्गशामिलहै — कोजोलाभमिलतारहाहै, वहअबजम्मू-कश्मीरकेलिएभीप्रासंगिकहोगयाहै।मिसालकेलिए, अनुच्छेद 35एकेखत्महोनेसेराज्यकीकिसीमहिलाकेबाहरीशख्ससेशादीकरनेपरविरासतमेंमिलीसंपत्तिपरउनकेबच्चोंकोअधिकारमिलेगा।अभीतकराज्यकीमहिलाओंकोगैर-कश्मीरीसेशादीकरनेपरइसअधिकारसेवंचितकियाजारहाथा।

पाकिस्तानद्वाराभारतकेइसफैसलेकेविरोधकाआधार /तर्क

  • जम्मूकश्मीरकेविशेषदर्जेकोभारतद्वारासमाप्तकियेजानेकाविरोधकरनेकेपीछेपकिस्तानकातर्कयहहैकीयहनिर्णयभारतकेसंविधानकेखिलाफ, सर्वोच्चन्यायालयकेफैसलेकेसाथ-साथजम्मूऔरकश्मीर [जम्मूऔरकश्मीर] उच्चन्यायालयकेफैसलेकेभीखिलाफहै।
  • पुनःभारतसरकारकायहकदमसंयुक्तराष्ट्रसुरक्षापरिषदके 17 प्रस्तावोंकेसाथ-साथ “संयुक्तराष्ट्रमहासभा [यूएनजीए] संकल्पकेभीखिलाफहै।
  • पुनःपाकिस्तानकायहभीमाननाहैकीशिमलासमझौतेकेमुताबिककश्मीरसम्बन्धीकोईभीफैसलाभारत -पाकिस्तानदोकोकोलेनातहतक्योंकियहमामलाद्विपक्षीयहै।लेकिनभारतनेशिमलासमझौतेकाउल्लंघनकिया।
  • परन्तुयदिइसनिर्णयनेवास्तवमेंयूएनएससीऔरयूएनजीएकेप्रस्तावोंकाउल्लंघनकियाहै, तोसंयुक्तराष्ट्रनेनईदिल्लीसेइसमुद्देपरयथास्थितिबहालकरनेकेलिएक्योंनहींकहा? अतःपाकिस्तानकेद्वारादियागयातर्कनिराधारहै।
  • पुनःभारतएकसंप्रभुदेशहैऔरसरकारकेइसनिर्णयसेभारतीयसंविधानकेकिसिसभीप्रावधानकाउल्लंघननहींकियागयाहै।

आगेकारास्ता

बहरहाल, इसफैसलेकेवास्तविकनिहितार्थोंकोसमझनेमेंकुछसमयलगेगाक्योंकिकर्फ्यूधीरे-धीरेखत्महोरहाहैऔरकश्मीरघाटीमेंसंचारकीलाइनेंअभीबहालहोनीशुरूहुईहैं।दूसरे, मोदीसरकारकोघाटीमेंलोगोंकीचिंताओंकोदूरकरने, जम्मूऔरकश्मीरकेबीचअंतर-क्षेत्रीयविश्वासबनानेऔरस्थानीयसुरक्षाएजेंसियोंमेंदलबदलसेबचनेकेलिएतत्कालऔरप्रभावीआउटरीचतंत्रकीआवश्यकताहोगी।यदिसरकारसुधारात्मकउपायोंकोतुरंतप्राथमिकतानहींदेतीहै, तोकश्मीरघाटीमेंनागरिकअशांतिऔरहिंसकसड़कविरोधकीगंभीरसंभावनाहै।

What you say about this

X
%d bloggers like this: