09.10.2017

समसमायिकी

दिनाकः- 09-10-2017

राष्ट्रीय घटनाकृम

अगले साल त्रिभाषा फॉर्मूले से बाहर हो जायेंगी विदेशी भाषाएँ

o   शैक्षाणिक सत्र 2012-19 से स्कूलों में जर्मन और फ्रेंच जैसी विदेशी भाषाएँ त्रिभाषा फॉर्मूले का हिस्सा नही होंगी।

o   मानव संसाधन विकास मंत्रलय के अनुसार संविधान की आठवीं अनुसूची में सूचीबद्ध भाषाएँ ही त्रिभाषा फॉर्मूले के तहत सिखाई जानी चाहिए।

o   राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत त्रिभाषा फॉर्मूले का आशय है कि हिन्दी भाषी राज्यों में विधार्थियों को हिन्दी और अंग्रेजी के अलावा एक आधुनिक भारतीय भाषा सीखनी चाहिए।

o   गैर-हिन्दी भाषी राज्यों में उन्हें स्थानीय भाषा और अंग्रेजी के अलावा हिन्दी भी सीखनी चाहिए।

o   सीबीएसई के वर्तमान त्रिभाषा फॉर्मूले के अनुसार नई योजना आठवी की बजाय दसवीं तक लागू होगी तथा इसमें विदेशी भाषा सम्मिलित नहीं होगी।

रेलवे ने खत्म किया 36 साल पुराना सामंती प्रोटोकॉल

o   रेलवे में वीआइपी संस्कृति खत्म करने की पहल करने हुए रेल मंत्रलय ने अपने वरिष्ठ अधिकारियों से दफ्रतर और घर दोनों से इसे समारन करने को कहा है।

o   36 साल पुराने प्रोटोकॉल के तहत रेलवे पोर्ड के चेयरमैन और बोर्ड के अन्य सदस्यों की क्षेत्रीय यात्रओं के दौरान उनके आगमन और प्रस्थान के समय महाप्रबंधकों का उपस्थित रहना अनिवार्य था।

o   मंत्रलय ने 28 सितंबर को आदेश जारी कर इस तरह के प्रोटोकॉल वाले 1981 के सर्कुलर को वापस ले लिया है।

o   इसके साथ ही रेल मंत्री ने वरिष्ठ अधिकारियों से सैलून और एक्जीक्यूटिव श्रेणी में यात्र करने की बजाय स्लीपर और एसी थ्री-टीयर में अन्य यात्रियों के साथ सफर करने को कहा है।

मध्य प्रदेश के इंदौर में एक साथ पाँच वायरस का हमला

o   मध्य प्रदेश के इंदौर में पहली बार एक साथ पाँच तरह के वायरस ने शहर पर हमला किया है।

o   पहले एन्फ्रलूएंजा वायरस आया, फिर स्वाइन फ्रलू, इसके बाद डेंगू।

o   इनके लौटने के पहले ही चिकनगुनिया ने दस्तक दे दी।

o   ये गंभीर वायरस खत्म भी नहीं हुए कि आँखों पर आकृमण करने वाला संकृमण शहर में आ गया।

देश भर में लागू हो सकती है मध्य प्रदेश की भावांतर योजना

o   मध्य प्रदेश में किसानों को फसल का उचित दाम दिलाने के लिए लागू मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजनादेश भर में लागू हो सकती है।

o   इसके द्वारा बाजार में उपज के दाम न्यूनतम समर्थन मूल्य से कम होने पर अंतर की राशि सरकार की ओर से किसान को अदा की जायेगी।

o   महाराष्ट्र, हरियाणा, कर्नाटक, आन्ध्र प्रदेश, तेलंगाना और छत्तीसगढ़ राज्य योजना का मसौदा ले चुके है।

कृषि वैज्ञानिक राजीव वार्ष्णेय ने खोजा कम बारिश में भी अच्छी पैदावार देने वाला जीन

o   चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय के जेनेरिक्स एंड प्लांट ब्रीडिंग विभाग के शोधार्थी राजीव वार्ष्णय ने बाजरे का ऐसा जीन खोजा है, जिसे गेहूँ, धान, दलहन, तिलहन में प्रत्यारोपित कर सूखे में भी उत्पादकता बरकरार रखी जा सकती है।

o   यह शोध प्रतिष्ठित अन्तर्राष्ट्रीय जर्नल नेचर बायोटेक्नोलॉजी में प्रकाशित हुआ है।

 

दूरसंचार नियामक ट्राईकी अन्तर्राष्ट्रीय कॉल पर टर्मिनेशन शुल्क घटाने की तैयारी

o   ट्राई अब अन्तर्राष्ट्रीय कॉल पर टर्मिनेशन शुल्क घटाने पर विचार कर रहा है।

o   टर्मिनेशन शुल्क वह शुल्क है, जो किसी ऑपरेटर द्वारा अपने नेटवर्क की कॉल को दूसरे ऑपरेटर के नेटवर्क पर ट्रांसफर करने के एवज में इसे अदा किया जाता है। इसे मोबाइल टर्मिनेशन चार्ज भी कहा जाता है।

o   वर्तमान में भारत में इंटरनेशनल कॉल पर टर्मिनेशन शुल्क की दर प्रति मिनट 53 पैसे है।

o   इससे पहले ट्राई ने डोमेस्टिक कॉल्स पर टर्मिनेशन शुल्क की दर को एक अक्टूबर से प्रति मिनट 14 पैसे से घटाकर छह पैसे करने का फैसला किया था।

o   ट्राई ने यह भी घोषणा की कि एक जनवरी 2020 से किसी तरह का टर्मिनेशन शुल्क नहीं लगेगा।

सौ साल पुराना डीजीएसएंडडी होगा बन्द

o   केन्द्र सरकार आपूर्ति एवं निपटान महानिदेशालय (डीजीएसएंडडी) को 31 अक्टूबर से बंद कर दिया जायेगा।

o   यह सरकार की करीब 100 साल पुरानी खरीद इकाई है। केन्द्र ने अब खरीद का काम पूरी तरह से वाणिज्य मंत्रलय के ई-मार्केट प्लेटफॉर्म (जेम) को सौंप दिया है।

ब्रेस्ट कैंसर के मामले में देश में शीर्ष पर दिल्ली

o   राष्ट्रीय कैंसर रोकथाम एवं अनुसंधान संस्थान की सहयोगी संस्था नेशनल कैंसर रजिस्ट्री प्रोग्राम की ताजा रिपोर्ट-2017 के अनुसार देश की राजधानी दिल्ली ब्रेस्ट कैंसर टैªड्स के मामले में देश में पहले नंबर पर पहुँच गयी है।

o   रिपोर्ट के अनुसार ब्रेस्ट कैंसर ट्रेंड्स के मामले में चेन्नई दूसरे, बंगलुरू तीसरे, मुम्बई चौथे तथा भोपाल पांचवें नंबर पर है।

o   एक अन्य रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका की तुलना में भारत में ब्रेस्ट कैंसर का सर्वाइवल रेट भी आधे से कम है।

 

तीन अमेरिकियों ने फतह की नीलकंठ चोटी

o   नई दिल्ली की संस्था आइबेक्स एक्सपीडिशन के जरिए अभियान पर निकले तीन अमेरिकीयो जेंटी लेस्ट्रोजा, थैसन थोन्सन, और एनी डिलबर्ट नीलकंठ चोटी फतह कर जोशीमठ लौट आये है।

o   उत्तराखण्ड के चमोली जिले में स्थित 6596 मी॰ ऊँची इस चोटी पर 16 बाद किसी दल ने पताका फहराई है।

o   वर्ष 2001 में अंतिम बार चार भारतीय पर्वतारोही वहा पहुँचे थे।

<span lang="HI" style="font-size: 18.0pt; mso-ansi-font-size: 20.0pt; line-height: 115%; font-family: 'Mangal','serif'; mso-ascii-font-family: Calibri; mso-ascii-theme-font:

0 Comment

Leave a comment